बापू के सपनों का गाँव – कैसे बनायें : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bapu Ke Sapnon Ka Ganv – Kaise Banayen : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameदूर के रिश्तेदार / Door Ke Rishtedar
Category, , ,
Language
Pages 79
Quality Good
Size 61 MB

पुस्तक का विवरण : नेतृत्व ने देश को निराश किया। गांधी जी के ग्राम स्वराज के चिंतन के विपरीत नगरीकरण एवं बड़े उद्योगों का जाल फैला दिया गया। इसके परिणामस्वरूप गाँव गरीब होते गए और शहर अमीर होते गए। भारत गरीब हो गया और इण्डिया अमीर हो गया। यह विषमता ग्रामोदय के द्वारा ही दूर की जा सकती। गांधी जी सदैव ग्रामोदय पर बल देते थे। अपने हिन्द स्वराज एवं ग्राम स्वराज………

Pustak Ka Vivaran : Netrtv ne Desh ko nirash kiya. Gandhi ji ke gram svaraj ke chintan ke vipareet Nagarikaran evan bade udyogon ka jal phaila diya gaya. Isake Parinamasvaroop Ganv gareeb hote gaye aur shahar ameer hote gaye. Bharat gareeb ho gaya aur india ameer ho gaya. Yah Vishamata gramoday ke dvara hi door ki ja sakti. Gandhi jee sadaiv Gramoday par bal dete the. Apane hind svaraj evan Gram Svaraj………

Description about eBook : The leadership disappointed the country. Contrary to Gandhi’s idea of ​​’Gram Swaraj’, the web of urbanization and big industries was spread. As a result, villages became poorer and cities became richer. India became poor and India became rich. This disparity can be removed only through Gramodaya. Gandhiji always emphasized on Gramodaya. Your Hind Swaraj and Gram Swaraj………

“मुझे ऐसे मित्र की आवश्यकता नहीं जो मेरे साथ-साथ बदले और मेरी हां में हां भरे; ऐसा तो मेरी परछाई कहीं बेहतर कर लेती है।” ‐ प्लूटार्क
“I don’t need a friend who changes when I change and who nods when I nod; my shadow does that much better.” ‐ Plutarch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment