बापू : उमाशंकर जोशी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bapu : by Umashankar Joshi Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बापू : उमाशंकर जोशी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bapu : by Umashankar Joshi Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बापू / Bapu
Author
Category, ,
Language
Pages 28
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गांधीजी को सिलाई का या ऐसा ही कुछ काम सौंपा गया था। अधिकतर हिंदवासियों को, कंकड़ तोड़ने के काम पर लगाया जाता था गांधीजी दरोगा से कहते थे कि उनको भी उसी काम पर लगाया जाय | लेकिन बड़े दरोगा ने हुकम दिया था कि गांधीजी को जेल से बाहर नहीं निकालना है। एक दिन गांधीजी के पास जो काम था वह पूरा हो गया तो वह पुस्तक पढ़ने लगे। लेकिन कैदी को तो, कोई न कोई काम करते रहना चाहिए……..

Pustak Ka Vivaran : Gandhi ji ko Silai ka ya Aisa hi Kuchh kam Saumpa gaya tha. Adhiktar Hindvasiyon ko, kankad todane ke kam par Lagaya jata tha Gandhi ji daroga se kahate the ki unko bhi usi kam par lagaya jay. Lekin bade daroga ne hukam diya tha ki Gandhi ji ko Jail se bahar nahin Nikalana hai. Ek din Gandhi ji ke pas jo kam tha vah pura ho gaya to vah pustak padhane lage. Lekin kaidi ko to, koi na koi kam karate rahana chahiye………

Description about eBook : Gandhiji was entrusted with sewing or something like that. Most of the Hindus were put on the work of breaking pebbles. Gandhiji used to ask the inspector that they should also be engaged on the same work. But the senior officer had ordered that Gandhiji should not be taken out of jail. One day the work that Gandhiji had was completed, so he started reading the book. But the prisoner must keep on doing some work or the other………

“हममें से जीवन किसी के लिए भी सरल नहीं है। लेकिन इससे क्या? हम में अडिगता होनी चाहिए तथा इससे भी अधिक अपने में विश्वास होना चाहिए। हमें यह विश्वास होना चाहिए कि हम सभी में कुछ न कुछ विशेषता है तथा इसे अवश्य ही प्राप्त किया जाना चाहिए।” ‐ मैरी क्यूरी
“Life is not easy for any of us. But what of that? We must have perseverance and above all confidence in ourselves. We must believe that we are gifted for something and that this thing must be attained.” ‐ Marie Curie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment