बीसवीं सदी का जिन्न : लाजार लागिन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Beesavin Sadi Ka Jinn : by Lazar Lagin Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

बीसवीं सदी का जिन्न : लाजार लागिन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Beesavin Sadi Ka Jinn : by Lazar Lagin Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बीसवीं सदी का जिन्न / Beesavin Sadi Ka Jinn
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 138
Quality Good
Size 14.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : फिर बाकी देर क्या इस बात पर बहस होती रहा कि आखिर सारा सामान कहाँ पर जमा किया जाये ताकि सुबह ट्रक आने पर चढ़ानेमें आसानी हो | सारा सामान बातिरा जा चुका था, इसलिए सबने चाय मेज पर ही चाय पी जिस पर मेजपोश नहीं था। लगता ऐसा था कि वे सब किसी पैदल सफर पर निकले हों। खैर किसी तरह यह तय हुआ……

Pustak Ka Vivaran : Phir Baki der kya is bat par bahas hoti raha ki Aakhir sara saman kahan par jama kiya jaye taki subah trak Aane par chadhanemen Aasani ho . Sara saman batira ja chuka tha, isaliye sabane chay mej par hee chay Pee jis par mejaposh nahin tha. Lagata aisa tha ki ve sab kisi Paidal saphar par nikale hon. Khair kisi tarah yah tay huya……..

Description about eBook : Then there was a debate on whether it should be stored at all times so that it would be easier to board the truck when it arrives in the morning. All the goods had gone to the garden, so everyone drank tea on the tea table which was not table-top. It was as if they had set out on a journey. Well somehow it was fixed ……..

“यदि उदासी न हो तो खुशी का कोई महत्त्व नहीं है।” कार्ल जंग
“The word happiness would lose its meaning if it were not balanced by sadness.” Carl Jung

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment