बीसवीं शताब्दी का साहित्य भाग 2 : डॉ मधु द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Beesvi Shatabdi Ka Sahitya Part 2 : by Dr. Madhu Hindi PDF Book

बीसवीं शताब्दी का साहित्य भाग 2 : डॉ मधु द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Beesvi Shatabdi Ka Sahitya Part 2 : by Dr. Madhu Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बीसवीं शताब्दी का साहित्य भाग 2 / Beesvi Shatabdi Ka Sahitya Part 2
Category, , ,
Pages 522
Quality Good
Size 28 MB
Download Status Available

बीसवीं शताब्दी का साहित्य भाग 2 का संछिप्त विवरण : मैंने ये कहानिया बेससरबरिया मे अक्करमन के नजदीक समुद्र तट पर सुनी थी | सांझ का समय था। अंगूर तोड़ने का काम खत्म हो चुका था। मोलदवियावासियो का दल जिसके साथ मे अंगूर तोड़ने का काम करता था, समुद्र तट को चल दिया। मैं और बुढ़िया इजरगील अंगूरी बेलों की घनी छाव मे चुपचाप लेटे थे…..

Beesvi Shatabdi Ka Sahitya Part 2 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : mainne ye kahaaniya besasarabariya me akkaraman ke najadeek samudr tat par sunee thee . saanjh ka samay tha. angoor todane ka kaam khatm ho chuka tha. moladaviyaavaasiyo ka dal jisake saath me angoor todane ka kaam karata tha, samudr tat ko chal diya. main aur budhiya ijarageel angooree belon kee ghanee chhaav me chupachaap lete the………….
Short Description of Beesvi Shatabdi Ka Sahitya Part 2 PDF Book : I had heard this story on the beach near Bukshabarri near Akkaran. It was evening time. The grape harvesting was over. The crew of the Moldavian crew with whom they used to break the grapefruit, walked to the beach. I used to lie quietly in the dense shadow of the old Egergel Anguri Vellas…………..
“ऐसा नहीं है कि मैं बहुत चतुर हूं; सच्चाई यह है कि मैं समस्याओं का सामना अधिक समय तक करता हूं। ” – अल्बर्ट आंईस्टीन
“It’s not that I’m so smart; it’s just that I stay with problems longer.” – Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment