बेटी हुई है : मयंक सक्सैना ‘हनी’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Beti Huyi Hai : by Mayank Saxena ‘Honey’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameबेटी हुई है / Beti Huyi Hai
Author
Category, , , ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 858 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गर्भ का समय ज्यों ज्यों पूर्ण होता जा रहा था, आस्था मुझझाए फूल सी असामान्यों की भाँति दिखने लगी थी। और वो समय निकट आ गया था जब वो बच्चा इस दुनिया में आने वाला था। आस्था को एक ही बात अंदर तक खाई जा रही थी कि यदि उसके पति और ससुरालियों का ऐसा ही व्यवहार उस नवजात के साथ भी रहा तो उसे आस्था की तरह ही ज़िन्दगी के वो कष्ट भी झेलने होंगे…….

Pustak Ka Vivaran : Garbh ka Samay jyon jyon purn hota ja raha tha, Aastha mujhajhaye phool si Asamanyon ki bhanti dikhane lagi thi. Aur vo samay nikat aa gaya tha jab vo bachcha is duniya mein aane vala tha. Aastha ko Ek hi bat andar tak khayi ja rahi thi ki yadi uske Pati aur sasuraliyon ka aisa hi vyavhar us Navjat ke sath bhi raha to use Aastha ki tarah hi zindagi ke vo kasht bhi jhelane honge………

Description about eBook : As the time of pregnancy was nearing completion, faith began to appear to me like a flower unusual. And the time was near when that child was going to come into this world. Only one thing was being eaten by Aastha that if the same behavior of her husband and in-laws continues with that newborn, then she will have to suffer the same hardships of life like Aastha………

“सुख हमें नहीं मिल सकता यदि विश्वास हम किन्हीं चीजों में करें और अमल करें किन्हीं और चीज़ों पर।” ‐ फ्रेया स्टार्क द जर्नीज़ ईको
“There can be no happiness if the things we believe in are different from the things we do.” ‐ Freya Stark, The Journey’s Echo

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment