बिनी के जानवर : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Bini Ke Janvar : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameबिनी के जानवर / Bini Ke Janvar
Author
Category, ,
Language
Pages 18
Quality Good
Size 618 KB
Download Status Available

बिनी के जानवर का संछिप्त विवरण : शिशु अवस्था वो पानी में बिताते हैं और बड़े होने के बाद जमीन पर आ जाते हैं। मेंढक इनका अच्छा उदाहरण हैं। तीसरी ढेरी में होंगे रेंगने वाले सरीसृप जैसे – सांप, छिपकली, कछुए और मगरमच्छ | चौथी ढेरी में चिड़िए होंगी– उनमें हरेक के पंख होंगे। और आखिरी ढेरी में होंगे स्तनपाई जीव उनके शरीर पर बाल या रोयेंदार फर होता है…….

Bini Ke Janvar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shishu Avastha vo Pani mein bitate hain aur bade hone ke bad jameen par aa jate hain. Mendhak inka achchha udaharan hain. Teesari dheri mein honge Renganevale Sarisrp jaise – Samp, Chhipakali, kachhue aur Magaramachchh . Chauthi dheree mein chidie hongi – Unamen harek ke pankh honge. Aur Aakhiri dheri mein honge stanpayi jeev unke shareer par bal ya Royendar phar hota hai…….
Short Description of Bini Ke Janvar PDF Book : They spend their infancy in water and when they grow up they come to land. Frogs are a good example of this. In the third heap will be reptiles such as snakes, lizards, turtles and crocodiles. There will be birds in the fourth heap — each of them will have wings. And there will be mammals in the last heap, they have hair or hairy fur on their body……….
“सफल होने के लिए ज़रूरी है कि आप में सफलता की आस असफलता के डर से कहीं अधिक हो।” ‐ बिल कोस्बी
“In order to succeed, your desire for success should be greater than your fear of failure.” ‐ Bill Cosby

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment