दक्षिण के देश रत्न : राजेन्द्र सिंह गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Dakshin Ke Desh Ratna : by Rajendra Singh Gaud Hindi PDF Book – Social (Samajik)

दक्षिण के देश रत्न : राजेन्द्र सिंह गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Dakshin Ke Desh Ratna : by Rajendra Singh Gaud Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दक्षिण के देश रत्न / Dakshin Ke Desh Ratna
Author
Category, , , ,
Language
Pages 251
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लेकिन चाँद बीवी के कभी इस झगडे को अपने दाम्पत्य जीवन में महत्त्व नहीं दिया। उन्होंने सुख-दुःख में बराबर अपने पति का साथ दिया। पर्दे में रहते हुए भी वह बीजापुर की राजनीति पर ध्यान जमाए रहती थी और अपने पति का साथ दिया। प्रजा के लिए तो वह परम कल्याणी थी। बीजापुर की भाषा कन्नड़ थी। चाँद बीवी ने प्रजाज का दुःख-दर्द समझने लिए कन्नड़ का ज्ञान प्राप्त किया…….

Pustak Ka Vivaran : Lekin Chand Beevi ke kabhee is Jhagade ko apane dampaty jeevan mein mahattv nahin diya. Unhonne sukh-duhkh mein barabar apane pati ka sath diya. Parde mein rahate huye bhee vah Beejapur kee Rajneeti par dhyan jamaye Rahati thee aur Apane pati ka sath diya. Praja ke lie to vah param kalyani thee. Beejapur kee bhasha kannad thee. Chand Beevi ne prajaj ka Duhkh-dard Samajhane lie kannad ka gyan prapt kiya………

Description about eBook : But Chand Biwi never gave importance to this quarrel in his married life. She supported her husband in happiness and sorrow. She remained focused on the politics of Bijapur and supported her husband even while on the screen. She was the ultimate Kalyani for the subjects. The language of Bijapur was Kannada. Chand Biwi gained knowledge of Kannada to understand the pain and suffering of the people ………

“धैर्य रखें। सभी कार्य सरल होने से पहले कठिन ही दिखाई देते हैं।” ‐ सादी
“Have patience. All things are difficult before they become easy.” ‐ Sadi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment