ई० सी० जॉर्ज सुदर्शन (वो आदमी जिसे भौतिकी से प्यार था) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | E. C. George (Vo Adami Jise Bhuatiki Se Pyar Tha) : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

ई० सी० जॉर्ज सुदर्शन (वो आदमी जिसे भौतिकी से प्यार था) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | E. C. George (Vo Adami Jise Bhuatiki Se Pyar Tha) : Hindi PDF Book - Children's Book (Bachchon Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ई० सी० जॉर्ज सुदर्शन (वो आदमी जिसे भौतिकी से प्यार था) / E. C. George (Vo Adami Jise Bhuatiki Se Pyar Tha)
Category, , , ,
Language
Pages 18
Quality Good
Size 1471 KB
Download Status Available

ई० सी० जॉर्ज सुदर्शन (वो आदमी जिसे भौतिकी से प्यार था)  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : बचपन में जॉर्ज को गणित से प्यार था. रोज़ केरल में वो अपने गाँव से मीलों दूर स्थित
स्कूल तक पैदल चलकर जाता था. उसकी माँ, अचम्मा ने उसे बहुत बड़ी संख्याओं को जोड़ना और घटाना
सिखाया. जब वो बड़ा हुआ जॉर्ज को भौतिकी से प्रेम हुआ. उसे लगा कि उसे भौतिकी से भी गणित जितना ही
प्यार था. शायद उससे भी कुछ अधिक…….

E. C. George (Vo Adami Jise Bhuatiki Se Pyar Tha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bachapan mein jorj ko ganit se pyar tha. Roz keral mein vo apane Ganv se meelon door sthit school tak paidal chalakar jata tha. Uski man, Achamma ne use bahut badi Sankhyaon ko jodana aur ghatana sikhaya. Jab vo bada huya jorj ko bhautiki se prem huya. Use laga ki use bhautiki se bhi ganit jitana hi pyar tha. Shayad usase bhi kuchh adhik………

 

Short Description of E. C. George (Vo Adami Jise Bhuatiki Se Pyar Tha  Hindi PDF Book  : As a child, George was in love with mathematics. Every day in Kerala, he used to walk to the school located miles away from his village. His mother, Achamma, taught him to add and subtract very large numbers. When he grew up, George fell in love with physics. He felt that he loved physics as much as mathematics. Maybe a little more than that…..

 

“अपनों में दूसरों की रुचि जगाने का प्रयास कर आप जितने मित्र दस वर्षों में बना सकतें हैं, उससे कहीं अधिक मित्र आप दूसरों में अपनी रुचि दिखा कर एक माह में बना सकते हैं।” ‐ चार्ल्स ऐलन
“You can make more friends in a month by being interested in them than in ten years by trying to get them interested in you.” ‐ Charles Allen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment