फरार की डायरी : दुर्गाशङ्कर प्रसाद सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Farar Ki Diary : by Durgashankar Prasad Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameफरार की डायरी / Farar Ki Diary
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 303
Quality Good
Size 17 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जेल एक ऐसा स्थान है जहाँ बहुत से लोगों को थोड़ी सी जगह में रात दिन साथ रहना पढ़ता है | हैवलाक – एलिस ने लिखा हैं. कि दामपत्य जीवन के सुख के लिये आवश्यक है कि साल में दो एक महीने के लिये स्री-पुरुष एक दूसरे से अलग रहें। बराबर साथ रहने से पारस्परिक कलह का अन्देशा रहता है। ऐसी दशा में दुनिया की ताजा हवा से वंचित, जेल की दीवारों से…..

Pustak Ka Vivaran : Jail ek aisa sthan hai jahan bahut se logon ko thodi see jagah mein rat din sath rahana padhata hai . Haivalak – alis ne likha hain. Ki damapaty jeevan ke sukh ke liye Aavashyak hai ki sal mein do ek maheene ke liye sree-purush ek doosare se alag rahen. barabar sath rahane se parasparik kalah ka andesha rahata hai. Aise dasha mein duniya ki taja hava se vanchit, jel kee deevaron se……

Description about eBook : Jail is a place where many people study in a small place to stay together day and night. Havlak-Ellis wrote. For the happiness of married life it is necessary that men and women should be separated from each other for two months in a year. By living together, there is a possibility of mutual discord. In such a situation, deprived of the fresh air of the world, the prison walls ……

“महान कवि हों, इसके लिए ज़रूरी है कि अच्छी श्रोता भी हों।” ‐ वाल्ट व्हिट्मेन, कवि (1819-1892)
“To have great poets, there must be great audiences.” ‐ Walt Whitman, poet (1819-1892)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment