गीत भी, अगीत भी : नीरज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Geet Bhee, Ageet Bhee : by Neeraj Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

गीत भी, अगीत भी : नीरज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Geet Bhee, Ageet Bhee : by Neeraj Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गीत भी, अगीत भी / Geet Bhee Ageet Bhee
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 108
Quality Good
Size 677 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस सभा की साज़िशों से तंग आकर, चोट खाकर गीत गाए ही बिना जो हैं गए वापिस मुसाफिर और वे जो हाथ में मिजराब पहने मुशकिलो की दे रहे हैं जिन्दगी के साज़ को सबसे नया स्वर, और तुम लाओ न लाओ, नेग तुम पाओ न पाओ उन्हें इस दौर का दूल्हा बनाकर ही उठेंगे। विश्व चाहे या न……..

Pustak Ka Vivaran : Is Sabha ki sazishon se tang Aakar, Chot khakar Geet gaye hi bina jo hain gaye vapis musaphir aur ve jo hath mein Mijarab pahane Mushakilo ki de rahe hain Zindagi ke saz ko sabase naya svar, aur tum lao na lao, neg tum pao na payo unhen is daur ka doolha banakar hi uthenge. Vishv chahe ya na chahe………..

Description about eBook : Being fed up with the intrigues of this gathering, without singing a song without injury, those who have gone back, and those who are in their hands, are giving the muskilo the latest tone of life, and you do not bring, you may not get He will rise by making them the groom of this period. Whether the world wants it or not …………

“स्वयं कर्म, जब तक मुझे यह भरोसा होता है कि यह सही कर्म है, मुझे संतुष्टि देता है।” ‐ जवाहर लाल नेहरु
“Action itself, so long as I am convinced that it is right action, gives me satisfaction.” ‐ Jawaharlal Nehru

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment