गीता – माधुर्य : स्वामी रामसुखदास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Geeta – Madhurya : by Swami Ramsukh Das Hindi PDF Book – Granth

Book Nameगीता – माधुर्य / Geeta – Madhurya
Author
Category, , , ,
Language
Pages 158
Quality Good
Size 7.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पाण्डवों ने बारह वर्ष का वनवास और एक वर्ष का अज्ञातवास समाप्त होने पर जब पूर्वप्रतिज्ञा के अनुसार अपना आधा राज्य माँगा, तब दुर्योधन ने आधा राज्य तो क्या, तीखी सुई की नोक जितनी जमीन भी बिना युद्ध के देनी स्वीकार नहीं की। अत: पाण्डवों ने माता कुँती की आज्ञा के अनुसार युद्ध करना स्वीकार कर लिया ………

Pustak Ka Vivaran : Pandavon ne barah varsh ka vanavas aur ek varsh ka agyatavas samapt hone par jab poorvapratigya ke anusar apana aadha raajy manga, tab duryodhan ne aadha rajy to kya, teekhee suee kee nok jitanee jameen bhee bina yuddh ke denee sveekar nahin kee. Ata: Pandavon ne mata kuntee kee aagya ke anusar yuddh karana sveekar kar liya…………

Description about eBook : At the time of birth if the sunrise houses are strong then the souls are also strong. If the sunrise is weak, the soul should also be considered weak. The opposite of Saturn, that is, the stronger Saturn is, the more inauspicious and the weaker it is, the more auspicious it should be considered. Sun and Moon King, Mercury Prince………..

“तूफ़ानों से पेड़ों की जड़ें और गहरी व मज़बूत होती है। ” – क्लॉड मैक्डॉनल्ड
“Storms make trees take deeper roots.” – Claude McDonald

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment