घर की आन : सत्य प्रकाश संगर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Ghar Ki Aan : by Satya Prakash Sangar Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameघर की आन / Ghar Ki Aan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 328
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : व्यक्ति की भावना और कलात्मक अनुभूति व्यक्ति की ही अपनी चीज़ बनकर नही रह सकती । संगरजी की थे कहानियां भी प्रकाशित हो जान पर, केबल उनकी व्यक्तिगत मार्मिक अनुभूति न रह कर समाज के लिये रसानुमूति का साधन बन गई हैं। इन कहानियों की प्रमुख विशेषता इनकी सादगी की शक्ति है……..

Pustak Ka Vivaran : Vyakti ki Bhavana aur kalatmak Anubhooti vyakti ki hi apni cheez bankar nahi rah sakti. Sangarajee ki the kahaniyan bhi prakashit ho jan par, kebal unki vyaktigat Marmik anubhooti na rah kar samaj ke liye rasanumooti ka sadhan ban gayi hain. In Kahaniyon ki pramukh visheshata inki sadgi ki shakti hai……..

Description about eBook : The feeling and artistic experience of the person cannot remain as the person’s own thing. When the stories of Sangarji are also published, the cable has become a tool for the society rather than his personal touching experience. The main feature of these stories is their power of simplicity…….

““कठिनाईयों का अर्थ आगे बढ़ना है, न कि हतोत्साहित होना। मानवीय भावना का अर्थ द्वन्द्व से और अधिक मजबूत होना होता है।” विलियम एल्लेरी चैन्निंग
“Difficulties are meant to rouse, not discourage. The human spirit is to grow strong by conflict.” William Ellery Channing

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment