गीताज्ञान : पंडित दीनानाथ भार्गव दिनेश द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Gita Gyaan : by Pandit Dinanath Bhargav Dinesh Hindi PDF Book

गीताज्ञान : पंडित दीनानाथ भार्गव दिनेश द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Gita Gyaan : by Pandit Dinanath Bhargav Dinesh Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गीताज्ञान / Gita Gyaan
Author
Category,
Language
Pages 770
Quality Good
Size 48.3 MB
Download Status Available

गीताज्ञान का संछिप्त विवरण : श्रोताओं को अपना मन कोमल करके इस कथा के माधुर्य का अनुभव उसी प्रकार करना चाहिये, जिस प्रकार चकोर के बच्चे मनोयोग पूर्वक शरद ऋतु की कोमल चंद्रकलाओं के सुधा चुन लेते है। भ्रमर जैसे फूल का पराग ले जाते है, परंतु कमलों के दल को इससे कुछ संवेदना नहीं होती, वेसी ही रीति इस ग्रथ के सेवन करने की है………

Gita Gyaan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shrotaon ko apana man komal karake is katha ke maadhury ka anubhav usee prakaar karana chaahiye, jis prakaar chakor ke bachche manoyog poorvak sharad rtu kee komal chandrakalaon ke sudha chun lete hai. bhramar jaise phool ka paraag le jaate hai, parantu kamalon ke dal ko isase kuchh sanvedana nahin hotee, vaisee hee reeti is grath ke sevan karane kee hai………….
Short Description of Gita Gyaan PDF Book : The listeners should experience the melody of this story by softening their minds in the same manner as the children of Chakor choose the Sudha of the gentle chandrakals of the autumn. Like pollen, pollen of flowers, but the cremation of the lotus does not have any sensation, the same method is to consume it……………
“गलत दिशा में जाने देने के लिए अपने माता पिता को दोष देने की एक समाप्ति तिथि होती है।” ‐ जे के रौलिंग
“There is an expiry date on blaming your parents for steering you in the wrong direction.” ‐ J K Rowling

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment