ईशावास्य (प्रवचन) : स्वामी श्री अखण्डानन्द सरस्वती जी महाराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Ishavasya (Pravchan) : by Swami Shri Akhandanand Saraswati Ji Maharaj Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

ईशावास्य (प्रवचन) : स्वामी श्री अखण्डानन्द सरस्वती जी महाराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Ishavasya (Pravchan) : by Swami Shri Akhandanand Saraswati Ji Maharaj Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ईशावास्य (प्रवचन) / Ishavasya (Pravchan)
Author
Category,
Language
Pages 189
Quality Good
Size 10.5 MB
Download Status Available

ईशावास्य (प्रवचन) का संछिप्त विवरण : जिसने वेदान्त का रहस्य जान लिया है उसने देखा कि वस्तु मानो एक गुहा में रख दी गयी है। उसमें संसार की ये पृथक्‌-पृथक्‌ वस्तुएँ बिना विभाग के रहती हैं। प्रलय के समय उसी में सब विभागों का उपसंहार होता है। सृष्टि के समय सब कुछ उसी से प्रकट होता है। वही परमात्मा सब में ओत प्रोत है, जैसे वस्त्र में सूत्र। अभिप्राय यह कि वही सब है। उससे अतिरिक्त और कोई वस्तु नहीं है……..

Ishavasya (Pravchan) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jisane Vedant ka rahasy jaan liya hai usane dekha ki vastu mano ek guha mein rakh di gayi hai. Usamen sansar ki ye prthak‌-prthak‌ vastuyen bina vibhag ke rahati hain. Pralay ke samay usi mein sab vibhagon ka upasanhar hota hai. Srshti ke samay sab kuchh usi se prakat hota hai. Vahi paramatma sab mein ot prot hai, jaise vastra mein sootra. Abhipray yah ki vahi sab hai. Usase Atirikt aur koi vastu nahin hai………..
Short Description of Ishavasya (Pravchan) PDF Book : One who has known the secret of Vedanta saw that the object is placed as if in a cavity. In it, these separate things of the world remain without department. At the time of the Holocaust, there is a epilogue of all the departments. Everything appears at the time of creation. The same God is full of everything, like the sutra in clothes. It means that that is all. There is nothing more than that ………
“कर्म सही या गलत नहीं होता है। लेकिन जब कर्म आंशिक, अधूरा होता है, सही या गलत की बात तब सामने आती है।” ‐ ब्रूस ली
“Action is not a matter of right and wrong. It is only when action is partial, not total, that there is right and wrong.” ‐ Bruce Lee

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment