प्रज्ञा प्रवचन : ब्रह्मवर्चस द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Pragya Pravchan : by Brahmavarchas Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

प्रज्ञा प्रवचन : ब्रह्मवर्चस द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Pragya Pravchan : by Brahmavarchas Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रज्ञा प्रवचन / Pragya Pravchan
Author
Category,
Language
Pages 81
Quality Good
Size 3.3 MB
Download Status Available

प्रज्ञा प्रवचन का संछिप्त विवरण : उदार राजा बलि की संपदा का उपयोग असुर उठा रहे थे। उसे मोड़ देना आवश्यक था। बलि में संपदा का सदुपयोग करने की उदारता की गुंजाइश देखकर ही प्रभु ने वामन रूप बनाया और समझा-बुझाकर ही वह प्रयोजन पूर्ण कर लिया, जो वध करने पर हो सकता था। परशुराम को दो मोर्चों पर जूझना पडा। उन्होंने अपना आधा कार्यकाल फरसा चलाने में और आधा फावड़ा प्रयुक्त…….

Pragya Pravchan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Udar Raja bali ki sampada ka upayog asur utha rahe the. Use mod dena Aavashyak tha. Bali mein sampada ka sadupayog karane ki udarata ki Gunjaish dekhakar hi prabhu ne vaman Roop banaya aur samajha-bujhakar hi vah prayojan purn kar liya, jo vadh karane par ho sakata tha. Parashuram ko do morchon par joojhana pada. Unhonne apana aadha karyakal pharasa chalane mein aur aadha phavada prayukt……..
Short Description of Pragya Pravchan PDF Book : The benevolent kings were using the wealth of Bali to raise the Asura It was necessary to bend him. Seeing the scope of the generosity of utilizing the wealth in the sacrifice, the Lord created the Vamana form and, by understanding it, fulfilled the purpose which could be done on the slaughter. Parashuram had to fight on two fronts. He used his half-term to run the ax and half a shovel …….
“जो व्यक्ति अपने बारे में नहीं सोचता, वह सोचता ही नहीं है।” ‐ ऑस्कर वाइल्ड
“A man who does not think for himself does not think at all.” ‐ Oscar Wilde

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment