इतनी परेशानी क्यों : नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Itni Pareshani Kyun : by Narayan Hindi PDF Book

इतनी परेशानी क्यों : नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Itni Pareshani Kyun : by Narayan Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name इतनी परेशानी क्यों / Itni Pareshani Kyun
Author
Category, ,
Language
Pages 134
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

इतनी परेशानी क्यों का संछिप्त विवरण : हिंदी में विस्तृत और गंभीर निबंध तो बहुत मिलते हैँ, लेकिन इसे निबंधी का बड़ा आभाव है, जो आकर में लघु हो, पढने में सरल सुबोध हो, पर साथ हे विचार प्रेरक भी हो | इस प्रकार के निबंध लिखना वास्तव में बड़ा कठिन है | गागर में सागर भरने के सामान है | हमें हर्ष है की प्रस्तुत पुस्तक द्वरा पाठकों को इस तरह की सामग्री उपलब्ध हो रही है……..

Itni Pareshani Kyun PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hindee mein vistrt aur gambheer nibandh to bahut milate hain, lekin ise nibandho ka bada aabhaav hai, jo aakar mein laghu ho, padhane mein saral subodh ho, par saath he vichaar prerak bhee ho. Is prakaar ke nibandh likhana vaastav mein bada kathin hai. Gaagar mein saagar bharane ke saamaan hai. Hamen harsh hai kee prastut pustak dvara paathakon ko is tarah kee saamagree upalabdh ho rahee hai…………..
Short Description of Itni Pareshani Kyun PDF Book : There is a lot of detailed and serious essays in Hindi, but it is a huge lack of essays, which is small in size, easy to read, but also with thoughts. It is really difficult to write such essays. Garg is the stuff of filling the ocean. We are glad that this kind of material is being provided to the reader by the present book…………..
“मुझे यह पसंद है कि व्यक्ति िजस जगह रहे वहां रहने का उसे अभिमान हो। मुझे यह पसंद है कि व्यक्ति ऐसे रहे कि उसके रहने की जगह को उसका अभिमान हो।” अब्राहम लिंकन
“I like to see a man proud of the place in which he lives. I like to see a man live so that his place will be proud of him.” Abraham Lincoln

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment