जागरण : मन्मथनाथ गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Jagran : by Manmath Nath Gupt Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

जागरण : मन्मथनाथ गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Jagran : by Manmath Nath Gupt Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जागरण / Jagran
Author
Category, , ,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पर इस उपन्यास की भूमिका मैं एक दूसरे ही उद्देश्य की पूर्ति के लिए लिख रहा हूँ। जिस काल पर इस उपन्यास का ताना-बाना प्रस्तुत किया गया है, वह हमारे आधुनिक इतिहास का एक अत्यंत गौरवमय अध्याय है। यह वह समय हे जब गाँधी भारतीय राजनीती के गगन में उदित हुए और एक ही छलांग में आकाश के सर्वोच्च बिंदु पर पहुँच गए। उनके प्रकाश के आगे युग-युग……..

Pustak Ka Vivaran : Par is Upanyas kee bhumika main ek dusare hi uddeshy kee purti ke liye likh raha hoon. Jis kal par is upanyas ka tana-bana prastut kiya gaya hai, vah hamare Aadhunik itihas ka ek atyant Gauravamay adhyay hai. Yah vah samay hai jab Gandhi bharatiya Rajneeti ke Gagan mein udit huye aur ek hee chhalang mein aakash ke sarvochch bindu par pahunch gaye. Unke prakash ke aage yug-yug…………

Description about eBook : But I am writing the role of this novel to serve another purpose. The period on which this novel is presented is a very glorious chapter in our modern history. This is the time when Gandhi rose in the glory of Indian politics and reached the highest point of the sky in a single leap. Era before their light………………

“बच्चों को बढ़ा कर प्रसन्नचित्त और स्वस्थ वयस्क बनाना ही मेरे लिए सफलता है।” ‐ कैली लिब्रोक
“Success for me is to raise happy, healthy human beings.” ‐ Kelly LeBrock

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment