जैनत्व की झांकी : श्री अमरचन्द्र जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Jain Tatva Ki Jhaki : by Shri Amarchandra Ji Hindi PDF Book

जैनत्व की झांकी : श्री अमरचन्द्र जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Jain Tatva Ki Jhaki : by Shri Amarchandra Ji Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जैनत्व की झांकी / Jain Tatva Ki Jhaki
Author
Category,
Language
Pages 198
Quality Good
Size 6.6 MB
Download Status Available

जैनत्व की झांकी पुस्तक का कुछ अंश : एक दिन ‘जैनत्व की झांकी’ का उद्घाटन धड़कते दिल से किया गया था | उस समय किसे पता था की झांकी इतनी शीघ्रता से समाज में आदर का स्थान प्राप्त कर लेगी ? उच्च कोटि के समाचार पत्रों ने दिल खोलकर प्रशंसा की | विद्वानों ने मुक्त-कंठ से सराहा | विधालयो और गुरुकुलों ने अपने -अपने पाठ्यक्रमों में गौरवपूर्ण स्थान दिया………

Jain Tatva Ki Jhaki PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ek din jainatv ki jhanki ka udghatan dhadakate dil se kiya gaya tha. Us samay kise pata tha ki jhaki ki itani shighrata se samaj mein aadar ka sthan prapt kar legi ? uchch koti ke samachar patron ne dil kholkar prashansa ki. Vidvanon ne mukt-kanth se saraha. Vidhalayo aur gurukulon ne apne -apne pathyakramon mein gauravpurn sthan diya…………
Short Passage of Jain Tatva Ki Jhaki Hindi PDF Book : One day the ‘Table of Jainism’ was inaugurated with throbbing heart. Who at that time knew that the tableau would soon get a place of respect in the society? High-quality newspapers eagerly admired. The scholars have appreciated the free-throat. Vidyalayo and Gurukulas gave pride in their respective courses……………
“हम जिस चीज़ की तलाश कहीं और कर रहे होते हैं वह हो सकता है कि हमारे पास ही हो।” हारवी कॉक्स
“What we are seeking so frantically elsewhere may turn out to be the horse we have been riding all along.” Harvey Cox

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment