जन गण मन : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jan Gan Man : by Vimal Mitra Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जन गण मन : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Jan Gan Man : by Vimal Mitra Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जन गण मन / Jan Gan Man
Author
Category,
Pages 271
Quality Good
Size 132 MB
Download Status Available

जन गण मन का संछिप्त विवरण : जब वातावरण में, आकाश में, वायु में एक विशेष रूप की भाप घूमती रहती है तो मानव-समाज में एक-एक कर युग आते हैं। उसी प्रकार का युग आया था चैतन्यदेव के समकाल में। उस समय सारा आकाश और अत्तरिक्ष प्रेम के रस में भीग गये थे। इसी कारण से अमूल्य वेष्णव……….

Jan Gan Man PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jab Vatavaran mein, Aakash mein, vayu mein ek vishesh roop ki bhap ghoomati rahati hai to manav-samaj mein ek-ek kar yug aate hain. Usi prakar ka yug aaya tha chaitanyadev ke samakaal mein. Us samay sara aakash aur attariksh prem ke ras mein bheeg gaye the. Isi karan se amooly veshnav……….
Short Description of Jan Gan Man PDF Book : When a particular form of steam keeps circulating in the atmosphere, in the sky, in the air, then eras come one by one in the human society. A similar era had come in the time of Chaitanyadev. At that time the whole sky and space were drenched in the juice of love. For this reason Amulya Vaishnava……….
“कायर बन के सौ वर्ष जीने से अच्छा है कि बहादुर बन के एक वर्ष जिया जाए।” ‐ मैडोना
“Better to live one year as a tiger, than a hundred as a sheep.” ‐ Madonna

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment