हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

झूठा सच देश का भविष्य / Jhutha Such Desh Ka Bhavishya

झूठा सच देश का भविष्य : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Jhutha Such Desh Ka Bhavishya : Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name झूठा सच देश का भविष्य / Jhutha Such Desh Ka Bhavishya
Category, , , , , ,
Language
Pages 611
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अपने मकान के फटने की ओर बजरंग की धमकी ओर ललकार सुनकर पंडित जी देखने के लिए उधर गए। बजरंग पाटों फसा खड़ा था। फाटक के बाहर बीस-पच्चीस स्त्री -पुरुषों की भीड़ असबाब उठाये भीतर आ सकने के लिए जिद्द कर रही थी। बजर॑ग उन्हें रोककर दूर हैट जाने के लिए धमका रहा था। बजरंग उन्हें रोककर …….

Pustak Ka Vivaran : Apane Makan ke phatane ki or bajarang kee dhamakee aur lalakar sunakar pandit jee dekhane ke liye udhar gaye. Bajrang paton phasa khada tha. Phatak ke bahar bees-pachchees stree -purushon kee bheed asabab uthaye bheetar aa sakane ke liye jidd kar rahee thee. Bajrang unhen rokakar door hait jane ke liye dhamaka raha tha. Bajrang unhen rokakar…………

Description about eBook : Panditji went there to see Bajrang’s threat and shout towards the explosion of his house. Bajrang Pats stood trapped. Outside the gate, a crowd of twenty-five women and men was trying to lift the furnishings to come inside. Bajrang was threatening to stop them and go to Hat. Bajrang stopping them………..

“मजबूरी की स्थिति आने से पहले ही परिवर्तन कर लें।” ‐ जैक वेल्च
“Change before you have to.” ‐ Jack Welch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment