कला की कलम : रघुवीर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kala Ki Kalam : by Raghuvir Sharan Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

कला की कलम : रघुवीर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kala Ki Kalam : by Raghuvir Sharan Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कला की कलम / Kala Ki Kalam
Author
Category, , ,
Language
Pages 176
Quality Good
Size 6.7 MB
Download Status Available

कला की कलम पुस्तक का कुछ अंश : कला सिद्धि है और कलम साधना | साधना के बिना सिद्धि नहीं हो सकती | कला का अर्थ है अभिव्यक्ति और कलम का अर्थ है निरूपण | कला विचारो का उद्रेक है और कलम उद्रेक को प्रवाह देने वाली गति | कला की कुशलता विविध व्यष्टि है और कलम की कुशलता नये प्रयोग | कला सशरीर आत्मा है और कलम सशरीर हृदय और बुद्धि……….

Kala Ki Kalam PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Kala siddhi hai aur kalam sadhna. Sadhna ke bina siddhi nahin ho sakti. Kala ka arth hai abhivyakti aur kalam ka arth hai nirupan. Kala vicharo ka udrek hai aur kalam udrek ko pravah dene vali gati. Kala ki kushalta vividh vyashti hai aur kalam ki kushalata naye prayog. Kala sasharir aatma hai aur kalam sasharir hraday aur buddhi…………
Short Passage of Kala Ki Kalam Hindi PDF Book : Art is accomplishment and pen practice. Without cultivation, accomplishment can not be achieved. Art means expression and pen means representation. Art is the outbreak of thoughts and motion of the pen to flow. The skill of art is diverse and the skill of the pen is a new experiment. Art is the soul and the pen is the heart and intellect………………
“मेरी पीढ़ी की महानतम खोज यह रही है कि मनुष्य अपने दृष्टिकोण में परिवर्तन कर के अपने जीवन को बदल सकता है।” विलियम जेम्स (१८४२-१९१०), अमरीकी दार्शनिक
“The greatest discovery of my generation is that a human being can alter his life by altering his attitudes.” William James (1842-1910), American Philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment