वीरायान : रघुवीर शरण ‘मित्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Veerayan : by Raghuvir Sharan ‘Mitra’ Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

वीरायान : रघुवीर शरण 'मित्र' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Veerayan : by Raghuvir Sharan 'Mitra' Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वीरायान / Veerayan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 374
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

वीरायान का संछिप्त विवरण : अनुभूति ज्ञान विज्ञान की निर्भरणी है। अनुभूति से वास्तविकता का बोध होता है। भावुकता से उमड़ा हुआ हृदय जो निष्कर्ष प्रस्तुत करता है वह समाप्ति का सूर्य होता है। अनुभूति से आवश्यकता या आवश्यकता से अनुभूति का उदय जल में कुम्भ और कुम्भ में जल जैसा है। लहरें…….

Veerayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Anubhooti gyan vigyan kee Nirbharani hai. Anubhooti se vastavikata ka bodh hota hai. Bhavukata se umada huya hrday jo Nishkarsh prastut karata hai vah samapti ka soory hota hai. Anubhooti se Avashyakata ya Avashyakata se anubhooti ka uday jal mein kumbh aur kumbh mein jal jaisa hai. Laharen…………
Short Description of Veerayan PDF Book : Knowledge is the essence of science of knowledge. Realization leads to realization of reality. The heart that is filled with emotion, the conclusion it presents is the sun of end. The emergence of feeling from need or need from feeling is like water in water and water in Aquarius. The waves………..
“वास्तविकता सपने को नष्ट कर सकती है; तो क्यों न सपना वास्तविकता को नष्ट करे?” ‐ जॉर्ज मूर
“Reality can destroy the dream; why shouldn’t the dream destroy reality?” ‐ George Moore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment