कालसर्प दोष शांति प्रयोग : श्री राज वर्मा जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | KalaSarp Dosh Shanti Prayog : by Shri Raj Verma Ji Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameकालसर्प दोष शांति प्रयोग / KalaSarp Dosh Shanti Prayog
Author
Category, , ,
Language
Pages 34
Quality Good
Size 443 KB
Download Status Available
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का बिवरण : कालसर्प योग मनुष्य के भाग्य में अवरोध उत्पन्न करता है | परिश्रम का पूर्ण फल प्राप्त न होने से असफलता मिलती है | अपयश, कोर्ट कचहरी, चिंता, शत्रुभय, अकारण शब्रुता, धोखा, रोग, चोट-दुर्घटना, व्यापार या नौकरी में उन्नति न होना, पारिवारिक कलेश, संतान बाधा, धनहानि, कर्ज, अभिचारिक कर्म आदि विकट परिस्थितियाँ ……….

Pustak Ka Vivaran : Kalasarp yog Manushy ke Bhagy mein avarodh utpann karata hai. Parishram ka poorn phal prapt na hone se asaphalata milati hai. Apayash, Court kachahari, chinta, shatrubhay, akaran shatruta, dhokha, Rog, chot-durghatana, vyapar ya Naukari mein unnati na hona, parivarik kalesh, santan badha, dhanahani, karj, abhicharik karm aadi vikat paristhitiyan………….

Description about eBook : Kalsarpa Yoga creates obstruction in the fate of man. Failure to get full results of labor does get failure. Uncertainty due to failure, court, court, anxiety, hostility, uncontrollable hostility, deceit, disease, injury, business or job advancement, family difficulties, child hinders, loss of money, debt, neutral actions…………..

“कर्म के बिना दूरदर्शिता एक दिवास्वप्न है। दूरदर्शिता के बिना कर्म दुःस्वप्न है।” ‐ जापानी कहावत
“Vision without action is a daydream. Action without vision is a nightmare.” ‐ Japanese proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment