कस्बे का एक दिन : अमृत राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kasbe Ka Ek Din : by Amrit Rai Hindi PDF Book – Story (Kahani)

कस्बे का एक दिन : अमृत राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Kasbe Ka Ek Din : by Amrit Rai Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कस्बे का एक दिन / Kasbe Ka Ek Din
Author
Category, , , ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

कस्बे का एक दिन का संछिप्त विवरण : चारों ओर था पहाड़ी प्रदेश जहाँ स्वस्थ पुरुष के सीने की-सी चौड़ी-चौड़ी चट्टानों पर चाँदनी अपनी समस्त कोमल, नग्न रूपराशि समेत बेखट के सोयी हुई है। भीषण बेंग से गिरने वाले जल-प्रपात के दूध के फेन के समान उजले पानी को चाँदनी और उजला बनाने की कोशिश कर रही थी। अनेक धाराएँ आपस में दकराकर जहाँ गिरती थीं वहाँ सूर्य……

Kasbe Ka Ek Din PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Charon or tha pahadi Pradesh jahan svasth purush ke seene ki-si chaudi-chaudi chattanon par chandani apani samast komal, nagn rooparashi samet bekhat ke soyi huyi hai. Bheeshan beng se Girane vale jal-prapat ke doodh ke phen ke saman ujale pani ko chandani aur ujala banane kee koshish kar rahi thi. Anek dharayen aapas mein dakarakar jahan girati theen vahan soory………
Short Description of Kasbe Ka Ek Din PDF Book : There was a mountainous area around, where the moonlight on all the wide rocks of a healthy man’s chest is sleeping with all his soft, naked look. Like the milk froth falling from the horrid beng, it was trying to make the bright water moonlight and light. Many streams dabbled in each other, where the sun fell there ………
“समस्या यह नहीं है कि समस्याएं हैं। अन्यथा प्रत्याशित करना है और यह सोचना कि समस्याएं हैं, यही समस्या है।” ‐ थियोडोर रूबिन
“The problem is not that there are problems. The problem is expecting otherwise and thinking that having problems is a problem.” ‐ Theodore Rubin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment