कथायन : आनंदप्रकाश जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kathayan : by Aanand Prakash Jain Hindi PDF Book – Story (Kahani)

कथायन : आनंदप्रकाश जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Kathayan : by Aanand Prakash Jain Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कथायन / Kathayan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 258
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

कथायन का संछिप्त विवरण : मौन विनती के साथ कांचन ने फिर अपना प्रयत्न दोहराया। उसी दृढ़ता से सुनील ने उसे विफल कर दिया। लेकिन नारी का दर्द चाहे करुणा के रूप में हो, चाहे आक्रोश के, आसानी से हार नहीं मानता। वह अब अपने बिछावन से उठ पति की शैया के एक कोने पर आ बैठी। कई क्षण वह बैठी ही रही। उसने पति के विद्रोह………….

Kathayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Maun Vinati ke Sath kanchan ne Phir Apana prayatn doharaya. Usi drdhata se sunil ne use viphal kar diya. Lekin Nari ka dard chahe karuna ke Roop mein ho, chahe Aakrosh ke, Aasani se har nahin Manata. Vah ab Apane bichhavan se uth pati ki shaiya ke ek kone par aa baithi. Kai kshan vah baithi hi rahi. Usane Pati ke vidroh……….

Short Description of Kathayan PDF Book : Kanchan then repeated her effort with a silent request. Sunil failed him with the same determination. But the pain of the woman, whether in the form of compassion or outrage, does not give up easily. She now got up from her bed and sat on one corner of the husband’s bed. She sat for many moments. She rebels husband ………..

“जब अवसर आता है तो तत्पर रहें।।।।किस्मत वह समय है जब तैयारी और अवसर की मुलाकात होती है।” – राय डी. चैपिन जूनियर
“Be ready when opportunity comes…Luck is the time when preparation and opportunity meet.” – Roy D. Chapin Jr

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment