केशवदास : रामरतन भटनागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Keshavdas : by Ramratan Bhatnagar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

केशवदास : रामरतन भटनागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Keshavdas : by Ramratan Bhatnagar Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name केशवदास / Keshavdas
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 476
Quality Good
Size 19 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : केशवदास का ओरछा राजदरबार में बड़ा मान था, इसका कवी ने अनेक बार उल्लेख किया है। इंद्रजीत उन्हें गुरु मानते थे। उन्हीं के के नाते राजाराम उन्हें मंत्री मित्र मानते थे। केशव ने अपनी शिक्षा-दीक्षा और आयु का अधिक भाग ओरछा में ही बिताया। ओरछा नगर और बेतवा नदी एवं….

Pustak Ka Vivaran : Keshavadas ka Orachha Rajadarabar mein bada maan tha, Isaka kavi ne anek bar ullekh kiya hai. Indrajeet unhen guru manate the. Unheen ke ke nate Rajaram unhen mantree mitra manate the. Keshav ne apanee shiksha-deeksha aur aayu ka adhik bhag orachha mein hee bitaya. Orachha nagar aur betava nadi evan…………

Description about eBook : Keshavdas’s Orchha was a great honor in the court, its poet has mentioned many times. Indrajit used to consider him as a guru As regarded him, Rajaram considered him a minister friend. Keshav spent most of his education and duration of his life in Orchha. Orchha Nagar and Betwa River and………..

“यदि आपने हवाई किलों का निर्माण किया है तो आपका कार्य बेकार नहीं जाना चाहिए, हवाई किले हवा में ही बनाए जाते हैं। अब, उनके नीचे नींव रखने का कार्य करें।” ‐ हैनरी डेविड थोरेयू
“If you have built castles in the air, your work need not be lost; that is where they should be. Now put the foundations under them.” ‐ Henry David Thoreau

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment