खुशियों की परी : दीप्ती ओझा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Khushiyon Ki Pari : by Deepti Ojha Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

खुशियों की परी : दीप्ती ओझा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Khushiyon Ki Pari : by Deepti Ojha Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name खुशियों की परी / Khushiyon Ki Pari
Author
Category,
Language
Pages 3
Quality Good
Size 807 KB
Download Status Available

खुशियों की परी पुस्तक का कुछ अंश : मुकेश ने मीता के माथे को चूमा और दवा का पर्चा लिए केमिस्ट की दुकान पर पहुंच गया। वहां उसकी नजर एक अखबार की खबर पर पड़ी। उसने खबर पढ़ी और अखबार लेकर अस्पताल की ओर चल पड़ा। तीन दिन बाद मीता को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। दोनों की शादी को दो साल बीत चुके थे। संतान की चाहत में मीता दिन रात ईश्वर से प्रार्थना करती रहती……….

Khushiyon Ki Pari PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Mukesh ne Meeta ke mathe ko chuma aur dava ka parcha lie kemist ki dukan par pahunch gaya. Vahan uski najar ek akhabar ki khabar par padi. Usne khabar padhi aur akhabar lekar aspatal ki or chal pada. Teen din baad Meeta ko aspatal se chhutti de di gai. Donon ki shadi ko do saal beet chuke the. Santan ki chahat mein Meeta din raat Ishvar se prarthna karti rahti………..
Short Passage of Khushiyon Ki Pari Hindi PDF Book : Mukesh kissed Meeta’s forehead and reached chemist’s shop for the formation of medicine. There he looked at the news of a newspaper. He read the news and took a newspaper and headed towards the hospital. Three days later, Mita was discharged from the hospital. Two years had passed since the marriage of both of them In the love of the children, Mita kept praying to God day and night……………
“हर कृति अपने कलाकार की आत्मकथा है। मोती सीप की आत्मकथा ही है।” ‐ फ़ेडरिको फेलिनी
“All art is autobiographical. The pearl is the oyster’s autobiography.” ‐ Federico Fellini

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment