ख्वाब था जो कुछ की देखा : डा० राणा प्रताप सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Khwab Tha Jo Kucha Ki Dekha : by Dr. Rana Pratap Singh Hindi PDF Book – Story (Kahani)

ख्वाब था जो कुछ की देखा : डा० राणा प्रताप सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Khwab Tha Jo Kucha Ki Dekha : by Dr. Rana Pratap Singh Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ख्वाब था जो कुछ की देखा / Khwab Tha Jo Kucha Ki Dekha
Author
Category,
Language
Pages 38
Quality Good
Size 4.4 MB
Download Status Available

ख्वाब था जो कुछ की देखा पुस्तक का कुछ अंश : “नकूश” कायालय से हम अनारकली बाजार गए जिसे देखकर दिल्ली का चाँदनी चौक याद आ आया | वैसी ही बड़ी-बड़ी, चौड़ी और बिजली की रौशनी से जगमगाती गहरी दुकाने, सैर करने वालो और ग्राहकों की भीड़ | लाहौर का यह बाजार सताब्दियों से यहाँ का आकर्षण रहा है………

Khwab Tha Jo Kucha Ki Dekha PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : “Nakush” kayalay se ham Anarkali bajar gae jise dekhkar Dilli ka Chandni chauk yaad aa aaya. Vaisi hi badi-badi, chaudi aur bijli ki roshni se jagmagati gahri dukane, sair karne valo aur grahakon ki bhid. Lahour ka yah bajar satabdiyon se yahan ka aakarshan raha hai…………
Short Passage of Khwab Tha Jo Kucha Ki Dekha Hindi PDF Book : From the “Nakosh” office we went to Anarkali market which saw the memory of Delhi’s Chandni Chowk. Likewise large, wide and light-eyed dark shops, walkers and crowds of customers. This market of Lahore has been a fascinating attraction for centuries………….
“”सभी से प्रेम करें, कुछ पर विश्वास करें और किसी के साथ भी गलत न करें।”” ‐ विलियम शेक्सपियर
“”Love all, trust a few, do wrong to none.”” ‐ William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment