राणा प्रतापसिंह : द्विजेन्द्र लाल राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Rana Pratap Singh : by Dwijendra Lal Rai Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameराणा प्रतापसिंह / Rana Pratap Singh
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 240
Quality Good
Size 6.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : खुश रोज वाली घटना घटित हुईं थी इस रूप में हमारे सामने नहीं रखता है जिस रूप में इस नाटक ने रक्खा है और इस कारण बहुत से दशक और पाठक इससे असन्तुष्ट होते हैं; परन्तु इस विषय में यदि वे तटस्थ होकर विचार करें और उन सब घटनाओं की बारीकी से जाँच करें जिन्हें इतिहास स्वीकार करता है, तो उन्हें अकबर-चरित्र का यह पहल, अवास्तविक नहीं जान पड़ेगा……

Pustak Ka Vivaran : Khush Roj vali Ghatna ghatit huyin thi is roop mein hamare samane nahin rakhata hai jis roop mein is natak ne rakkha hai aur is karan vahutase dashak aur pathak isase asantusht hote hain; parantu is vishay mein yadi ve tatasth hokar vichar karen aur un sab ghatanayon ki bariki se janch karen jinhen itihas svikar karta hai, to unhen Akbar-Charitr ka yah pahal, Avastavik nahin jan padega………

Description about eBook : The happy everyday event that happened does not put before us the way this play has put it and therefore for many decades and readers are dissatisfied with it; But if he thinks neutrally in this matter and examines closely all those events which history accepts, then he will not find this initiative of Akbar’s character to be unreal…….

“एक सृजनशील व्यक्ति कुछ कर पाने की उम्मीद से प्रेरित होता है, दूसरों को होड़ में हराने की उम्मीद से नहीं।” ऐन रैंड
“A creative man is motivated by the desire to achieve, not by the desire to beat others.” Ayn Rand

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment