लौंजानस के उदात्त तत्व सिद्धान्त के आधार पर निरला काव्य का अध्ययन : प्रवेश कुमार सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Launjanas Ke Udatt Tatva Sidhant Ke Aadhar Par Nirala Kavya Ka Adhyayan : by Pravesh Kumar Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

लौंजानस के उदात्त तत्व सिद्धान्त के आधार पर निरला काव्य का अध्ययन : प्रवेश कुमार सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Launjanas Ke Udatt Tatva Sidhant Ke Aadhar Par Nirala Kavya Ka Adhyayan : by Pravesh Kumar Singh Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name लौंजानस के उदात्त तत्व सिद्धान्त के आधार पर निरला काव्य का अध्ययन / Launjanas Ke Udatt Tatva Sidhant Ke Aadhar Par Nirala Kavya Ka Adhyayan
Author
Category, ,
Language
Pages 186
Quality Good
Size 13.6 MB
Download Status Available

लौंजानस के उदात्त तत्व सिद्धान्त के आधार पर निरला काव्य का अध्ययन का संछिप्त विवरण : आधुनिक हिन्दी कविता में सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला जीवन-संस्कृति और रचना-कर्म की व्यापक्त और गहन समझ के साथ तुलसी के रूप में एक बार पुनः ‘मैं ही बसन्‍्त का अग्रदूत’ कहते हुए जब सामने आते हैं तब वर्जन के सभी वज़-द्वार तोड़ते दिखाई देते हैं। काव्य-क्षेत्र में जो पहल छायावाद में प्रसाद और पन्त ने की थी उसकी सर्वाधिक समर्थ सर्जनात्मक निष्पत्ति निराला के रचनाकर्म में हुई……

Launjanas Ke Udatt Tatva Sidhant Ke Aadhar Par Nirala Kavya Ka Adhyayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aadhunik Hindi kavita mein Sooryakant Tripathi Nirala jeevan-sanskrti aur rachana-karm ki vyapakt aur gahan samajh ke sath Tulsi ke roop mein ek bar punah main hi basant ka Agradoot kahate huye jab samane aate hain tab varjan ke sabhi vaz-dvar todate dikhayi dete hain. kavy-kshetra mein jo pahal chhayavad mein prasad aur pant ne ki thi uski sarvadhik samarth sarjanatmak nishpatti nirala ke rachanakarm mein huyi……….
Short Description of Launjanas Ke Udatt Tatva Sidhant Ke Aadhar Par Nirala Kavya Ka Adhyayan PDF Book : In modern Hindi poetry, when Suryakant Tripathi appears once again in the form of Tulsi with a comprehensive and in-depth understanding of life-culture and creation-karma, saying ‘I am the harbinger of spring’, then he is seen breaking all the gates of the version. give. In the field of poetry, the initiative taken by Prasad and Pant in Chhayavad, its most powerful creative achievement was in the creative work of Nirala………
“उस व्यक्ति के लिए सभी परिस्थितियां अच्छी हैं जो अपने भीतर खुशी संजो कर रखता है।” ‐ होरेस फ्रिस्स
“All seasons are beautiful for the person who carries happiness within.” ‐ Horace Friess

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment