मदारी : अलेक्सान्द्र कुप्रिन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Madari : by Alexander Kuprin Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

मदारी : अलेक्सान्द्र कुप्रिन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Madari : by Alexander Kuprin Hindi PDF Book - Children's Book (Bachchon Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मदारी / Madari
Author
Category, ,
Language
Pages 48
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

मदारी का संछिप्त विवरण : रूस में 497 में हुई समाजवादी क्रान्ति के बाद अलेक्सान्द्र कुप्रिन लम्बे समय तक प्रवास में रहे। 1937 में वह स्वदेश लौट आये। तब उन्होंने संवाददाताओं से कहा था : “मेरा बहुत मन है कि मैं सोवियत युवाजन के लिए, मनमोहक सोवियत बच्चों के लिए लिखूँ।” किन्तु, दुर्भाग्यवश, उनकी इन इच्छाओं को पूरा होना न बदा था। एक वर्ष बाद कुप्रिन का देहान्त हो गया………

Madari PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rusis mein 1917 mein huyi Samajvadi kranti ke bad Alexsandr kuprin lambe samay tak pravas mein rahe. 1937 mein vah svadesh laut aaye. Tab unhonne sanvadadatayon se kaha tha : “Mera bahut man hai ki main soviat Union ke liye, Manamohak soviyat bachchon ke liye likhoon.” Kintu, durbhagyavash, unaki in Ichchhayon ko poora hona na bada tha. Ek varsh bad kuprin ka dehant ho gaya……….
Short Description of Madari PDF Book : After the socialist revolution in Russia in 1917, Alexander Kuprin lived for a long time. In 1937, he returned home. He then told reporters: “I have a great desire to write for the Soviet youth, for the charming Soviet children.” But, unfortunately, his wishes were not fulfilled. Kuprin died after one year ……….
“आप जो सोचते हैं, आप जो कहते हैं, और आप जो करते हैं, इनमें तालमेल होना ही सुखी होना है।” – महात्मा गांधी
“Happiness is when what you think, what you say, and what you do are in harmony.” – Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment