मधु-रस : श्री भगवत् स्वरुप जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Madhu-Ras : by Shri Bhagwat Swaroop Jain Hindi PDF Book

Book Nameमधु-रस / Madhu-Ras
Author
Category, , , ,
Language
Pages 45
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

मधु-रस  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : इन तुकबंदियो के विषय में कुछ कहने की इच्छा होती है | पर, यह सोचकर मौन अधिक
उचित जान पड़ता है की यदि ये रचनाएँ सुंदर हैं, तो मेरे कहने की ज़रूरत क्या रह जाती है ? और यदि

असुंदर हैं तो मैं किसी भी तरह आपके परखी-हृदय को ठग नहीं सकता| | शेष रहती है अपनी बात, औ अपने
बारे में यह प्रकट करने में ज़रा भी हिचक नहीं है………

Madhu-Ras  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : In tukabandiyo ke vishay mein kuchh kahane kee ichchha hotee hai.Par, yah sochakar maun adhik uchit jaan padata hai kee yadi ye rachanaen sundar hain, to mere kahane kee zaroorat kya rah jaatee hai ? aur yadi asundar hain to main kisee bhee tarah aapake parakhee-hraday ko thag nahin sakata. Shesh rahatee hai apanee baat, au apane baare mein yah prakat karane mein zara bhee hichak nahin hai………….

 

Short Description of Madhu-Ras Hindi PDF Book  : There is a desire to say something about these tactics. But, it seems more appropriate to think that if these compositions are beautiful, then what do I need to say? And if you are unhappy then I can not cheat your test-heart in any way. | The remainder remains your point, and there is little reluctance to reveal it about yourself………….

 

“चरित्र को बनाए रखना आसान है, उसके भ्रष्ट हो जाने के बाद उसे सुधारना कठिन है।” ‐ टॉमस पेन (१७३७-१८०९), लेखक एवं राजनीतिक सिद्धांतकार
“Character is much easier kept than recovered.” ‐ Thomas Paine (1737-1809), Writer and Political Thinker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment