हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

भाग्य / Bhagya

भाग्य : श्री भगवत जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Bhagya : by Shri Bhagwat Jain Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भाग्य / Bhagya
Author
Category, , , ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कौशाम्बी-नगरी के धन कुबेर धवलराय पांच सौ जहाजों का एक काफिला लेकर व्यापार के लिए निकले हुए है | यहां आकर उनके जहाज तूफान का झोका खाकर, पास की खाड़ी में जा पड़े | लाख चेष्टाएँ करने पर भी अब वह टस से मस नहीं होते | सभी उपायों से हार कर ज्योतिषी का सहारा लिया गया………

Pustak Ka Vivaran : Kaushambi-Nagari ke dhan kuber dhavalaray panch sau jahaajon ka ek kaphila lekar vyapar ke liye nikale huye hai. Yahan aakar unake jahaj toophan ka jhoka khakar, pas ki khadi mein ja pade. Lakh cheshtaen karane par bhee ab vah tas se mas nahin hote. Sabhi upayon se har kar jyotishi ka sahara liya gaya………….

Description about eBook : Kaushambi-Nagari’s wealth, Kuber Dhawalai, is carrying out a convoy of five hundred vessels for business. By coming here, their ships get into the nearby Gulf by storming the storm. Even after doing millions of tricks, now he does not get angry. Astrologer was defeated by losing all the measures…………..

“उच्च उपलब्धियों के लिए आवश्यक हैं उच्च लक्ष्य।” ‐ चौ के राजा चिंग (1100 ई.पू)
“High achievement comes from high aims.” ‐ King Ching of Chou (1100 BC)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment