घूँघट : भगवत स्वरूप जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक : नाटक | Ghunghat : by Bhagwat Swaroop Jain Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameघूँघट / Ghunghat
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 34
Quality Good
Size 819 KB
Download Status Available

घूँघट का संछिप्त विवरण : हाँ, तो नौकरी तो लग गई | लेकिन ऐसी बेढंग कि जिसका बयान करना गोया अपनी कंडीशन का बॉक आउट करना होता है ! सुबह दस से लेकर शाम के पांच बजे तक बह कमर-तोड़ मिहनत करनी पड़ती ! “कि हजरत जिस्म-साहब भी याद फरमा उठते है कि अजब मेहनती से पाला पड़ा ! और तारीफ यह कि इस…..

Ghunghat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Han, to Naukari to lag gayi. Lekin aisee bedhang ki jisaka bayan karana goya apani kandeeshan ka vok aaut karana hota hai ! Subah das se lekar sham ke panch baje tak vah kamar-tod mihanat karani padati ! ki hajarat jism-sahab bhi yad pharama uthate hai ki ajab mehanati se pala pada ! aur tareeph yah ki is………….
Short Description of Ghunghat PDF Book : Yes, then it took a job. But it is unreasonable to say that Goya has to walk out of his condition! From 10 in the morning to five o’clock in the morning, he had to work hard! “Hajrat Jism-Saheb also remembers that awakened by hard work! And compliments that this…………..
“हम वस्तुओं को जैसी हैं वैसे नहीं देखते हैं। हम उन्हें वैसे देखते हैं जैसे हम हैं।” ‐ टालमड
“We do not see things they are. We see them as we are.” ‐ Talmud

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment