महाभारत वनपर्व : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Mahabharat Vanparv : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

महाभारत वनपर्व : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Mahabharat Vanparv : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name महाभारत वनपर्व / Mahabharat Vanparv
Author
Category, ,
Pages 713
Quality Good
Size 33 MB
Download Status Available

महाभारत वनपर्व का संछिप्त विवरण : कलियुग में .जिस २ प्रकार होता है वह मैंने तुम्हें कहकर सुना दिया, वैसे ही हे पाण्डव ! तुमने लोकों के युगों की संख्या भी सुनी है, इस प्रकार वायु का कहां हुआ और ऋषियों का बखाना हुआ भूत, भविष्य और वर्तमान का सर्व वृतान्‍्त आपको कहकर उनादिया, चिंरकाल जीने वाले मैंने ऐसे संसार के बहुत से मार्ग दृष्टि से देखे हैं और अनुभव भी किये हैं इस कारण मैंने उन……

Mahabharat Vanparv PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kaliyug mein Jis 2 prakar hota hai vah mainne tumhen kahkar suna diya, vaise hi he pandav ! Tumane lokon ke yugon ki sankhya bhi suni hai, is prakar vayu ka kahan huya aur Rishiyon ka bakhana huya bhoot, bhavishy aur vartaman ka sarv vrtant Apko kahakar unadiya, chinrakal jeene vale mainne aise sansar ke bahut se marg drshti se dekhe hain aur anubhav bhi kiye hain is karan mainne un……..
Short Description of Mahabharat Vanparv PDF Book : In Kaliyuga, I have narrated to you the two types that happen, in the same way, O Pandavas! You have also heard the number of ages of the worlds, thus where is the wind and the sages have given all the stories of past, future and present by telling you Unadia, who have lived forever, I have seen and experienced many ways of such a world. That’s why I have done them………
“जो आप बन सकते थे वह बनने के लिए कभी देर नहीं हुई।” -जॉर्ज इलियट
“It is never too late to be what you might have been. ” -George Eliot

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment