महाकवि मतिराम : त्रिभुवन सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Mahakavi Matiram : by Tribhuvan Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameमहाकवि मतिराम / Mahakavi Matiram
Author
Category, ,
Language
Pages 382
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

महाकवि मतिराम पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : बिखरे फुटकल दोहों को इकठ्ठा होगा तो उसे बिहारी सतसई की तौल पर अंग का आकार देने के लिये थे- ‘सारी ओपचारिकता की होगी | जब तक ऐसी कोई हस्तनिक्ति प्रामाणिक प्रति मतिराम की लिखी ल मिल जाय तब तक – हम “भोगनाथ” इससे अधिक महत्व देने का कोई कारण ही नहीं……

Mahakavi Matiram PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bikhare Phutkal Dohon ko Ikaththa hoga to use Bihari satasi ki taul par ang ka Aakar dene ke liye the- sari Opacharikata ki hogi . Jab tak Aisee koi hastanikti pramanik prati matiram ki likhi na mil jay tab tak – ham “Bhognath” isase Adhik Mahattv dene ka koi karan hi nahin Pate………..

Short Description of Mahakavi Matiram Hindi PDF Book : If the scattered footballs were assembled, they were meant to shape the limb on the weight of Bihari Satsai – ‘All the formalities will be done. Till we find such a authentic copy of Matiram written – we cannot find any reason to give more importance to “Bhognath” ………..

 

“यदि आप किसी बाह्य कारण से परेशान हैं, दो परेशानी उस कारण से नहीं, अपितु आपके द्वारा उसका अनुमान लगाने से होती है, और आपके पास इसे किसी भी क्षण बदलने का सामर्थ्य है।” ‐ मैर्कस औयरिलियस
“If you are distressed by anything external, the pain is not due to the thing itself, but to your estimate of it; and this you have the power to revoke at any moment.” ‐ Marcus Aurelius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment