हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

उपार्जित क्षण / Uparjit Kshan

उपार्जित क्षण : त्रिभुवन चतुर्वेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Uparjit Kshan : by Tribhuvan Chaturvedi Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उपार्जित क्षण / Uparjit Kshan
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 104
Quality Good
Size 671 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : “आईने अकबरी”” के लेखक अबुल फजल ने समकालीन साहित्यकारों और कलाकारों का वर्णन करते हुए अपने भाई फैजी के प्रसंग में लिखा है : उसके बारे में कुछ भी बखान करने में मेरा मातृत्व-प्रेम बाधक है। फिर भी, मैं केवल इतना ही कह कर अपनी लेखनी को विराम देता हूं कि जो शब्द से शब्द को जोड़ता है, गोया जिस्म से खून का एक कतरा कम करता है……..

Pustak Ka Vivaran : “Aine Akbari” ke lekhak Abul fazal ne samakalin sahityakaron aur kalakaron ka varnan karate huye apane bhai phaiji ke prasang mein likha hai : Usake bare mein kuchh bhi bakhan karane mein mera matrtv-prem badhak hai. Phir bhee, main keval itana hi kah kar apani lekhani ko viram deta hoon ki jo shabd se shabd ko jodata hai, goya jism se khoon ka ek katara kam karata hai……….

Description about eBook : Abin Fazal, author of “Ain Akbari”, has written in the context of his brother Faizi, describing contemporary litterateurs and artists: My motherly love is an obstacle in telling anything about him. Nevertheless, I pause my writing only by saying that the one who connects word to word reduces a strand of blood from Goya jism …….

“मित्रता कभी भी अवसर नहीं अपितु हमेशा एक मधुर उत्तरदायित्व होती है।” ‐ कैहलिल गिब्रान
“Friendship is always a sweet responsibility; never an opportunity.” ‐ Kahlil Gibran

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment