महन्त अवेद्यनाथ भाग -३ : सदानन्द प्रसाद गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Mahant Avedyanath Part-3 : by Sadanand Prasad Gupta Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameमहन्त अवेद्यनाथ भाग -३ / Mahant Avedyanath Part-3
Author
Category, , , ,
Language
Pages 703
Quality Good
Size 140.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारतीय धार्मिक -सांस्कृतिक चिन्तनधारा की अविच्छिन्न परम्परा में नाथपंथ का महत्वपूर्ण स्थान है | यह भारतीय इतिहास की वह प्रबल धारा है | जो भारतवर्ष में अखण्ड रूप से कई शताब्दियों तक प्रवाहित होती रही रही तथा जिससे विभिन्न साधना पद्धतियों और साहित्य की धाराओ को प्रभावित किया | इतिहासविदों ने नाथपंथ को बौद्धों की वज्रयान शाखा से सम्बद्ध माना है……….

Pustak Ka Vivaran : Bharatiy dharmik -sanskrtik chintandhara ki avichchhinn parampra mein nathapanth ka mahatvapurn sthan hai. Yah bharatiy itihas ki vah prabal dhara hai. Jo bharatavarsh mein akhand rup se kai shatabdiyon tak pravahit hoti rahi rahi tatha jisse vibhinn sadhna paddhatiyon aur sahity ki dharao ko prabhavit kiya. Itihasavidon ne nathpanth ko bauddhon kee vajrayan shakha se sambaddh mana hai…………

Description about eBook : Nathpanth is an important place in an indigenous tradition of Indian religious-cultural thought. This is the strong current of Indian history. Which had been continuously flowing through India for many centuries and influenced the various practices and practices of literature. Historians have regarded Nathputra associated with the Vajrayana branch of the Buddhists……………

“जब दूसरे व्यक्ति सोए हों, तो उस समय अध्ययन करें; उस समय कार्य करें जब दूसरे व्यक्ति अपने समय को नष्ट करते हैं; उस समय तैयारी करें जब दूसरे खेल रहे हों ; और उस समय सपने देखें जब दूसरे केवल कामना ही कर रहे हों।” – विलियम आर्थर वार्ड
“Study while others are sleeping; work while others are loafing; prepare while others are playing; and dream while others are wishing.” -William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment