मालगुडी का मेहमान : आर. के. नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Malgudi Ka Mehman : by R. K. Narayan Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

मालगुडी का मेहमान : आर. के. नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Malgudi Ka Mehman : by R. K. Narayan Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मालगुडी का मेहमान / Malgudi Ka Mehman
Author
Category,
Language
Pages 94
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

मालगुडी का मेहमान पुस्तक का कुछ अंशमैंने कुछ सोचकर जेब से पाँच रुपए का एक नोट निकाला और स्टेशन मास्टर के सामने उसे करते हुए व कहा, “यह त्यौहार मनाने के लिए है।” कौन सा त्यौहार यह तो मैं बता नहीं सका, सोचा कि कोई न कोई तो होगा ही क्योंकि हिन्दुओं | में हर रोज़ कोई तो होता ही है। किसी समझदार ने कभी कहा था, “हमारे यहाँ 365 दिन में 366 त्यौहार होते हैं।” स्टेशन मास्टर व्यापारियों से इस तरह की भेंट लेने का आदी था, क्योंकि वे गोदाम में अपना माल पड़ा रहना पसन्द नहीं करते थे और चाहते थे कि पहली गाड़ी से ही……….

Malgudi Ka Mehman PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Mainne Kuchh Sochkar jeb se panch rupe ka ek not nikala aur station mastar ke samane use karate hue va kaha, “Yah tyauar manane ke lie hai.” Kaun sa tyauhar yah to main bata nahin saka, socha ki koi na koi to hoga hi kyonki hinduon mein har roz koi to hota hi hai. kisi samajhadar ne kabhi kaha tha, “Hamare yahan 365 din mein 366 tyauhar hote hain.” Station mastar vyapariyon se is tarah ki bhent lene ka aadi tha, kyonki ve godam mein apana mal pada rahana pasand nahin karate the aur chahate the ki pahali gadi se hi……….
Short Passage of Malgudi Ka Mehman Hindi PDF Book : Thinking something, I took out a five rupee note from my pocket and showed it in front of the station master and said, “This is to celebrate the festival.” I could not tell which festival, thought that there would be one or the other because Hindus. Everyday there is someone in me. Some sensible person had once said, “There are 366 festivals in 365 days here.” The station master was in the habit of taking such presents from the merchants, as they did not like their goods lying in the godown and wanted the first train to ……….
“हमारी पहचान हमेशा हमारे द्वारा छोड़ी गई उपलब्धियों से होती है।” ‐ अमरीकी कहावत
“We will be known forever by the tracks we leave.” ‐ American proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment