मालगुडी का मिठाई वाला : आर. के. नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Malgudi Ka Mithai Vala : by R. K. Narayan Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

मालगुडी का मिठाई वाला : आर. के. नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Malgudi Ka Mithai Vala : by R. K. Narayan Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मालगुडी का मिठाई वाला / Malgudi Ka Mithai Vala
Author
Category,
Language
Pages 212
Quality Good
Size 1.5 MB
Download Status Available

मालगुडी का मिठाई वाला पुस्तक का कुछ अंशप्रश्न में श्रेता की रुचि ही समाप्त हो गई, वह तो बातचीत को चलाए रहने के ही लिए जगन की कुर्सी के बगल में स्टूल डालकर बैठा हुआ था। जगन दीवाल पर लकड़ी के फ्रेम में मढ़ी देवी लक्ष्मी के चित्र के नीचे बैठा था, जिस पर वह हर सवेरे सबसे पहले चमेली के फूलों की माला चढ़ाता था, और दीवाल पर बने एक छेद में एक अगरबत्ती भी जलाकर लगा देता था। इनसे निकलती फूलों और धूप की खुशबू हॉल के दूसरी तरफ किचेन में बनती मिठाइयों की अपनी विशेष बू से मिल-जुलकर एक नया वातावरण पैदा………..

Malgudi Ka Mithai Vala PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Prashn mein Shreta ki ruchi hi samapt ho gayi, vah to batcheet ko chalaye rahane ke hi liye jagan ki kursi ke bagal mein stool dalkar baitha huya tha. Jagan Deeval par lakadee ke phrem mein madhi devi lakshmi ke chitra ke neeche baitha tha, jis par vah har savere sabase pahale chamelee ke phoolon ki mala chadhata tha, aur deeval par bane ek chhed mein ek agarabatti bhi jalkar laga deta tha. Inse Nikalati phoolon aur dhoop ki khushaboo hol ke doosari taraph kichen mein banati mithaiyon ki apni vishesh boo se mil-julakar ek naya vatavaran paida……..
Short Passage of Malgudi Ka Mithai Vala Hindi PDF Book : Shreta lost interest in the question, he sat down by putting a stool next to Jagan’s chair just to keep the conversation going. Jagan sat under a wooden framed picture of the goddess Lakshmi on the wall, to which he offered a garland of jasmine flowers first thing in the morning, and also lit an incense stick in a hole in the wall. The fragrance of flowers and incense emanating from them mixed with the special smell of the sweets prepared in the kitchen on the other side of the hall, creating a new atmosphere…….
“सफलता हमेशा के लिए नहीं होती, असफलता कभी घातक नहीं होती: यह तो लगे रहने की प्रवृत्ति है जो मायने रखती है।” विंस्टन चर्चिल
“Success is not final, failure is not fatal: it is the courage to continue that counts.” Winston Churchill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment