मन के चमत्कार : डॉ. जोसेफ मर्फी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Man Ke Chamatkar : by Dr. Joseph Murphy Hindi PDF Book

मन के चमत्कार : डॉ. जोसेफ मर्फी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - मनोविज्ञान | Man Ke Chamatkar : by Dr. Joseph Murphy Hindi PDF Book - Psychology (Manovigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मन के चमत्कार / Man Ke Chamatkar
Author
Category
Language
Pages 58
Quality Good
Size 772 KB
Download Status Available

मन के चमत्कार पुस्तक का कुछ अंश : वस्तुपरक शब्द का अर्थ है कि यह वस्तुओं से सरोकार रखता है। दूसरी ओर, व्यक्तिपरक मन पाँच शारीरिक इंद्रियों से स्वतंत्र साधनों द्वारा अपने परिवेश की जानकारी रखता है। व्यक्तिपरक मन या अवचेतन मन – दोनों में से किसी भी शब्दावली का इस्तेमाल किया जा सकता है – अंतर्ज्ञन से समझता है। अवचेतन मन आपकी भावनाओं का स्थान है। हम बिना किसी शक के जानते हैं कि यह अपने सबसे आवश्यक काम तब करता है, जब वस्तुपरक इंद्रियाँ सुषुप्तावस्था में या शिथिल हों यह बुद्धि ख़ुद को तब प्रकट करती है, जब चेतन मन सोया हो या उनींदी, ऊँघती……….

Man Ke Chamatkar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Vastuparak Shabd ka arth hai ki yah vastuon se sarokar rakhata hai. Doosari or, vyaktiparak man panch shareerik indriyon se svatantra sadhanon dvara apane parivesh ki jankari rakhata hai. Vyaktiparak man ya avachetan man – donon mein se kisi bhi shabdavali ka istemal kiya ja sakata hai – Antargyan se samajhata hai. Avachetan man aapaki bhavanayon ka sthan hai. Ham bina kisi shak ke janate hain ki yah apane sabase aavashyak kam tab karata hai, jab vastuparak indriyan sushuptavastha mein ya shithil hon yah buddhi khud ko tab prakat karti hai, jab chetan man soya ho ya uneendi, oonghati……….
Short Passage of Man Ke Chamatkar Hindi PDF Book : The word objective means that it deals with things. On the other hand, the subjective mind is aware of its surroundings by means independent of the five physical senses. The subjective mind or the subconscious mind – either term may be used – perceives intuitively. The subconscious mind is the seat of your emotions. We know without doubt that it does its most essential work when the objective senses are dormant or relaxed, that intelligence manifests itself when the conscious mind is asleep or drowsy……..
“मित्रता के बिना जीवन कुछ भी नहीं है।” ‐ मार्कस टूल्लियस सिसेरो
“Life is nothing without friendship.” ‐ Marcus Tullius Cicero

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment