मानसरोवर (भाग 4) : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mansarovar (Part 4) : by Premchand Hindi PDF Book

मानसरोवर (भाग 4) : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mansarovar (Part 4) : by Premchand Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मानसरोवर (भाग 4) / Mansarovar (Part 4)
Author
Category,
Language
Pages 315
Quality Good
Size 12.02 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरी कक्षा मे सूर्यप्रकाश से ज्यादा कोई ऊधमी कोई लड़ना न था, बल्कि कहो की अध्यापन काल के दस वर्षो मे मुझे ऐसी विषम प्रकृति के शिष्य से सबका न पड़ा था। कपट कीड़ा मे उसकी जान बस्ती थी। अध्यापकों को बनाने और चिढाने, उधयोगी बालकों को छेड़ने और रूलाने मे ही उसे आनंद आता था। ऐसे ऐसे षड्यत्र रचता ऐसे ऐसे बाँधनू बढ़ता की देखकर आश्चर्य होता था……………

Pustak ka Vivaran : Meri kaksha me sooryaprakaash se jyaada koi oodhamee koee ladana na tha, balki kaho kee adhyaapan kaal ke das varsho me mujhe aisee visham prakrti ke shishy se sabaka na pada tha. Kapat keeda me usakee jaan bastee thee. Adhyaapakon ko banaane aur chidhaane, udhayogee baalakon ko chhedane aur roolaane me hee use aanand aata tha. Aise aise shadyatr rachata aise aise baandhanoo badhata kee dekhakar aashchary hota tha……………

Description of the book : There was no fight in my class more fussy than Suryaprakash, rather say that during the ten years of my teaching time, I did not have to deal with a disciple of such a strange nature. His life was in the deceit worm. He used to enjoy making and teasing teachers, teasing and making industrial children cry. It was astonishing to see such a bindu growing such a conspiracy.

“हर व्यक्ति को शांति अपने अंदर से ही ढूंढनी होती है और यह शांति वास्तविक हो, इसके लिये यह आवश्यक है कि इस पर बाहरी परिस्थितियों का प्रभाव न हो।” – महात्मा गांधी
“Each one has to find his peace from within and peace to be real must be unaffected by outside circumstances.” -Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment