मोही पति – विचारशील पत्नी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Mohi Pati – Vicharsheel Pati : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

मोही पति - विचारशील पत्नी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Mohi Pati - Vicharsheel Pati : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मोही पति – विचारशील पत्नी / Mohi Pati – Vicharsheel Pati
Author
Category, , , ,
Language
Pages 324
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

मोही पति – विचारशील पत्नी का संछिप्त विवरण : शिष्यों की यह बात सुनकर विश्वामित्र अपने आपे में न रह सके और बोले -शायद हरीशर्च॑द्र को मेरा, मेरे तपोःबल का और मेरे क्रोध का कुछ भी भय नहीं है । क्या इस पृथ्वी पर है कोई ऐसा मनुष्य जो मेरी उपेक्षा कर सके क्‍या हरिइचन्द्र को यह मालूम नहीं कि बड़े-बड़े ऋषियों को मुझ से किस प्रकार हार माननी पड़ी……….

Mohi Pati – Vicharsheel Pati PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shishyon ki yah bat Sunkar Vishvamitra apane aape mein na rah sake aur bole -shayad harishachandra ko mera, mere tapohbal ka aur mere krodh ka kuchh bhi bhay nahin hai. Kya is Prthvi par hai koi aisa manushy jo meri upeksha kar sake kya Harishchandra ko yah maloom nahin ki bade-bade Rishiyon ko mujh se kis prakar har manani padi…….
Short Description of Mohi Pati – Vicharsheel Pati PDF Book : Hearing this from the disciples, Vishwamitra could not stay in himself and said – Perhaps Harishchandra has nothing to fear about me, my tenacity and my anger. Is there any person on this earth who can ignore me, doesn’t Harichand know how the great sages had to give up on me…….
“आपके जीवन के प्रश्न का आप ही उत्तर हैं, और आपके जीवन की समस्याओं का आप ही उत्तर हैं।” जॉय कोरडेयर
“To the question of your life you are the answer, and to the problems of your life you are the solution.” Joe Cordare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment