मुक्ति मार्ग (एक लघु कथा) : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Mukti Marg (Ek Laghu Katha) : by Premchand Hindi PDF Book – Story (Kahani)

मुक्ति मार्ग (एक लघु कथा) : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Mukti Marg (Ek Laghu Katha) : by Premchand Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मुक्ति मार्ग (एक लघु कथा) / Mukti Marg (Ek Laghu Katha)
Author
Category, ,
Language
Pages 13
Quality Good
Size 440 KB
Download Status Available

मुक्ति मार्ग (एक लघु कथा) पुस्तक का कुछ अंशएक दिन संध्या के समय वह अपने बेटे को गोद में लिए मटर की फलियाँ तोड़ रहा था। इतने में उसे भेड़ों का एक झुंड अपनी तरफ आता दिखायी दिया। वह अपने मन में कहने लगा, इधर से भेड़ों के निकलने का रास्ता न था। क्या खेत की मेंड़ पर से भेड़ों का झुंड नहीं जा सकता था ? भेड़ों को इधर से लाने की क्‍या ज़रुरत थी? ये खेत को कुचलेंगी, चरेंगी। इसका दण्ड कौन देगा? मालूम होता है, बुद्धू गडरिया है, बच्चा को घमंड हो गया है……….

Mukti Marg (Ek Laghu Katha) PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ek Din Sandhya ke samay vah apane bete ko god mein liye matar ki phaliyan tod raha tha. Itane mein use bhedon ka ek jhund apni taraph aata dikhayi diya. Vah apane man mein kahane laga, idhar se bhedon ke nikalane ka rasta na tha. Kya khet ki mend par se bhedon ka jhund nahin ja sakta tha ? Bhedon ko idhar se lane ki k‍ya zarurat thei ? ye khet ko kuchalengi, charengee. Iska dand kaun dega? Maloom hota hai, buddhoo gadariya hai, bachcha ko ghamand ho gaya hai……….
Short Passage of Mukti Marg (Ek Laghu Katha) Hindi PDF Book : One day in the evening he was plucking peas with his son in his arms. Meanwhile, he saw a herd of sheep coming towards him. He started saying in his mind, there was no way for the sheep to get out from here. Couldn’t the herd of sheep have crossed the ridge of the field? What was the need to bring the sheep from here? They will crush the fields, they will graze. Who will punish this? It seems that the fool is a shepherd, the child has become proud……..
“कर्म सही या गलत नहीं होता है। लेकिन जब कर्म आंशिक, अधूरा होता है, सही या गलत की बात तब सामने आती है।” ‐ ब्रूस ली
“Action is not a matter of right and wrong. It is only when action is partial, not total, that there is right and wrong.” ‐ Bruce Lee

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment