नदी प्यासी थी : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Nadi Pyasi Thi : by Dharamveer Bharti Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameनदी प्यासी थी / Nadi Pyasi Thi
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 339 KB

पुस्तक का विवरण : मशीन होनी चाहिए जो अपने बाहु-चक्रों में सभी को कुचल दे। उसके बिना आदमी जिन्दा नहीं रह सकता। कभी-कभी मन में एक भयंकर खूनी प्यास जागती है जिन्दगी से बदला लेने की; मगर दोस्त ! प्यार ने यह भी साहस तोड़ दिया है। जहाँ खयाल आता है कि इस चक्र में वह भी पिस जायगी जिसे मैंने ईश्वर से बढ़ कर माना है, जो आज मुझसे दूर हो गई है तो क्या हुआ……..

Pustak Ka Vivaran : Machine honi chahiye jo Apane bahu-chakron mein sabhi ko kuchal de. usake bina Aadami jinda nahin rah sakata. Kabhi-kabhi man mein ek bhayankar khooni pyas jagati hai jindagi se badala lene kee; Magar dost! Pyar ne yah bhee sahas tod diya hai. jahan khayal Aata hai ki is chakr mein vah bhee pis jayagi jise mainne Ishvar se badh kar mana hai, jo Aaj Mujhase door ho gayi hai to kya huya………

Description about eBook : There should be a machine that crushes everyone in their arms and cycles. A man cannot live without him. Sometimes a fierce bloody thirst arose in the mind of revenge from life; But friend! Love has also broken courage. Where I think that in this cycle, that too will be crushed, which I have considered more than God, which has gone away from me today, what happened ……

“हमारे भीतर क्या छिपा है इसकी तुलना में हमारे विगत में क्या था और हमारे भविष्य में क्या है, यह बहुत छोटी छोटी बातें है।” ‐ राल्फ वाल्डो एमर्सन
“What lies behind us and what lies before us are tiny matters compared to what lies within us.” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment