मुर्दों का गाँव : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Murdon Ka Ganv : by Dharamveer Bharti Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameमुर्दों का गाँव / Murdon Ka Ganv
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 56
Quality Good
Size 19 MB

पुस्तक का विवरण : उस गाँव के बारे में अजीब अफगाहें फैली थी | लोग कहते थे कि वहाँ दिन में भी मौत का एक काला साया रोशनी पर पड़ा रहता है | शाम होते होते ही कब्र जमुहाइयाँ लेने लगती हैं और भूखे कंकाल अँधेरे का लबादा ओड कर सड़कों, पगडंडियों और खेतों की मेड़ो पर खाने की तलाश में घूमा करते है | उनके ढीले पंजरों की खड़बड़ाहट सुनकर …….

Pustak Ka Vivaran : Us Ganv ke bare mein ajeeb aphagahen phaili thee. Log kahate the ki vahan din mein bhi maut ka ek kala saya roshani par pada rahata hai. Sham hote hote hi kabr jamuhaiyan lene lagati hain aur bhookhe kankal andhere ka labada od kar sadakon, pagadandiyon aur kheton kee medo par khane ki talash mein ghooma karate hai. Unake dheele panjaron kee khadabadahat sunakar…………

Description about eBook : Strange Afghans were spreading about that village. People used to say that there is a black light of death in the day. As soon as the evening, the graves begin to collect jummihaias and roam the hungry skeleton in search of food on the streets of the roads, trails and fields. Listening to the rattle of their loose clutches…………..

“कल तो चला गया। आने वाले कल अभी आया नहीं है। हमारे पास केवल आज है। आईये शुरुआत करें।” मदर टेरेसा
“Yesterday is gone. Tomorrow has not yet come. We have only today. Let us begin.” Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment