नागार्जुन रचना संचयन : राजेश जोशी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Nagarjun Rachana Sanchayan : by Rajesh Joshi Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

नागार्जुन रचना संचयन : राजेश जोशी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Nagarjun Rachana Sanchayan : by Rajesh Joshi Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नागार्जुन रचना संचयन / Nagarjun Rachana Sanchayan
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 330
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देखा है लेकिन मात्र देखा है तक सीमित नहीं है। इसमें जितना देखना शामिल है उतना ही सुनना, सूँघना और चखना भी शामिल है। उनकी आँख जितनी अपलक जाग्रत है उनके कान भी उतने ही चौकज्ने हैं और अन्य इंद्रियाँ भी उतनी ही सजग। उनकी रचना एक ऐसे प्रिज़्म की तरह है जिससे गुजरते ही जीवन के सारे रंग-ढंग हमारे सामने उजागर होने लगते हैं……

Pustak Ka Vivaran : Dekha hai Lekin Matra dekha hai tak Seemit nahin hai. Isamen jitana dekhana shamil hai utana hi sunana, Soonghana aur chakhana bhi shamil hai. Unaki Aankh jitani apalak jagrat hai unake kan bhi utane hi Chaukanne hain aur any Indriyan bhi utani hi sajag. Unaki Rachana ek aise prizm ki tarah hai jisase Gujarate hi Jeevan ke sare Rang-dhang hamare samane ujagar hone lagate hain…….

Description about eBook : Have seen but are not limited to just seen. It includes listening, sniffing and tasting as much as it involves seeing. Their eyes are as alert as their ears, they are equally alert and other senses are equally alert. His creation is like a prism through which all the colors of life are exposed to us …….

“परिस्थितियां मानव नियंत्रण से बाहर हैं, लेकिन हमारा आचरण हमारे ही नियंत्रण में है।” – बेंजामिन डिसरायलि
“Circumstances are beyond human control, but our conduct is in our own power.” -Benjamin Disraeli

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment