कुछ तो हक़ अदा हुआ – नागार्जुन की बांग्ला कविता : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kuchh To Hak Ada Kiya – Nagarjun Ki Bangla Kavita : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

कुछ तो हक़ अदा हुआ - नागार्जुन की बांग्ला कविता : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kuchh To Hak Ada Kiya - Nagarjun Ki Bangla Kavita : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुछ तो हक़ अदा हुआ - नागार्जुन की बांग्ला कविता / Kuchh To Hak Ada Kiya - Nagarjun Ki Bangla Kavita
Author
Category, , , ,
Language
Pages 2
Quality Good
Size 853 KB
Download Status Available

कुछ तो हक़ अदा हुआ – नागार्जुन की बांग्ला कविता  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  अनुराग को कम नहीं किया था, बल्कि बढ़ाया ही था। ‘नागार्जुन मैथिल थे। मैथिली उनकी
मातृभाषा थी। वे मैथिली में भी लिखते थे। वे सिर्फ मैथिली में ही नहीं बांग्ला और संस्कृत में भी लिखते थे।
मैथिली का होना उनके लिए हिंदी का होने में बाधक नहीं सहायक और आवश्यक ही था। इसलिए मैथिली के
साथ ही वे हिंदी के भी उतने ही थे…

Kuchh To Hak Ada Kiya – Nagarjun Ki Bangla Kavita PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Anurag ko kam nahin kiya tha, Balki badhaya hi tha. Nagarjun Maithil the. Maithili unki Matrbhasha thi. Ve Maithili mein bhi likhate the. Ve Sirph Maithili mein hi nahin Bangla aur sanskrt mein bhi likhate the. Maithili ka hona unke liye hindi ka hone mein Badhak nahin sahayak aur Aavashyak hi tha. Isliye maithili ke sath hi ve hindi ke bhi utane hi the……..

Short Description of Kuchh To Hak Ada Kiya – Nagarjun Ki Bangla Kavita Hindi PDF Book : Anurag was not reduced, but only increased. Nagarjuna was Maithil. Maithili was his mother tongue. He also used to write in Maithili. He used to write not only in Maithili but also in Bengali and Sanskrit. The existence of Maithili was not a hindrance to Hindi being a hindrance, it was helpful and necessary. That’s why along with Maithili he was equally of Hindi……

 

“आशा के साथ तैयार की गई सड़क पर यात्रा करना उस सड़क पर यात्रा करने से कहीं अधिक आनन्ददायक होता है जिसे निराशा के साथ तैयार किया जाता है चाहे उन दोनो की मंजिल एक ही क्यों न हो।” ‐ मैरियन जिम्मर ब्रैडले
“The road that is built in hope is more pleasant to the traveler than the road built in despair, even though they both lead to the same destination.” ‐ Marian Zimmer Bradley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment