नारद पञ्चरात्र : रामकुमार राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Narad Panchratra : by Ram Kumar Ray Hindi PDF Book – Granth

नारद पञ्चरात्र : रामकुमार राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Narad Panchratra : by Ram Kumar Ray Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नारद पञ्चरात्र / Narad Panchratra
Author
Category, ,
Language
Pages 542
Quality Good
Size 148 MB
Download Status Available

नारद पञ्चरात्र का संछिप्त विवरण : यह जल शून्याश्रित अर्थात निराधार है और इस निराधार जल पर श्रीहरि की कला से उत्पन्न महाविष्णु शयन करते हैं। महत जल और महावायु भी श्रीहरि की कला से उत्पन्न हुए है पूर्व समय में राधा के गर्भ से एक सुवर्ण डिम्ब से वायु उत्पन्न हुआ। सहसा गोलोक से प्रेरित…

Narad Panchratra PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah Jal Shunyashrit Arthat Niradhar hai aur is Niradhar jal par Shri Hari ki kala se utpann mahavishnu shayan karate hain. Mahat Jal aur Mahavayu bhi Shrihari ki kala se utpann huye hai ,Poorv samay mein Radha ke Garbh se ek suvarn dimb se vayu utpann huya. Sahasa golok se prerit………….
Short Description of Narad Panchratra PDF Book : This water is nothingless, meaningless and Mahavishnu sleeps on this destitute water resulting from the art of Srihari. Great water and Mahavayu have also originated from the art of Srihari, in the past, a golden egg was produced from Radha’s womb. Suddenly inspired by Goloka…………..
“हो सकता है कि मैं आपके विचारों से सहमत न हो पाऊं, परन्तु विचार प्रकट करने के आपके अधिकार की रक्षा करूंगा।” – वाल्तेयर
“I may not agree with what you say, but I’ll defend to the death your right to say it.” – Voltaire

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment