नये समाज की खोज : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Naye Samaj Ki Khoj : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameनये समाज की खोज / Naye Samaj Ki Khoj
Author
Category, ,
Language
Pages 304
Quality Good
Size 2.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक आदमी अगर सिर के बल धूप में खड़ा हो जाए तो फिर हमें नमस्कार करनी ही पड़ती है। और अगर एक आदमी उपवास करने लगे तो हमें उसके पैर छूने पड़ते हैं। और एक आदमी अगर कांटों की शय्या पर लेट जाए तो हमें फिर तो उसके लिए मंदिर बनाना पड़ता है, उसकी पूजा का इंतजाम करना पड़ता है। अगर आदमी अपने को सताने लगे तो हम सब उसे आदर देने के लिए तैयार हैं…………

Pustak Ka Vivaran : Ek Aadmi agar sir ke bal dhoop mein khada ho jaye to phir hamen Namaskar karani hi padati hai. Aur agar ek Aadmi Upvas karane lage to hamen usake pair chhune padate hain. Aur ek Aadmi agar kanton ki shayya par let jaye to hamen phir to uske liye mandir banana padata hai, uski puja ka intajam karana padata hai. Agar Aadmi apne ko satane lage to ham sab use aadar dene ke liye taiyar hain……..

Description about eBook : If a man stands on his head in the sun, then we have to do Namaskar. And if a man starts fasting, we have to touch his feet. And if a man lies down on a bed of thorns, then we have to build a temple for him, arrange for his worship. If a man starts torturing himself, then we are all ready to give him respect……..

“अच्छा क्या है, इसे सीखने के लिए एक हजार दिन भी अपर्याप्त हैं; लेकिन बुरा क्या है, यह सीखने के लिए एक घंटा भी ज्यादा है।” ‐ चीनी कहावत
“To learn what is good, a thousand days are not sufficient; to learn what is evil, an hour is too long.” ‐ Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment